Leadership: Experienced, Competent, Qualified & Academicians...

छात्रों को कितना सोना चाहिए ?

छात्रों को कितना सोना चाहिए ?

शोधकर्ताओं की सिफारिशों के मुताबिक, नवजातों (तीन महीने की आयु) को प्रतिदिन 14-17 घंटे, वहीं शिशुओं (चार से 11 ... की आयु) को कम से कम आठ से 10 घंटे, जबकि वयस्कों को रोजाना सात घंटे से कम तथा नौ घंटे से ज्यादा नहीं सोना चाहिए। अधिकतर लोगों को यह तो पता होता है कि उन्हें जितनी नींद लेनी चाहिए थी उतनी नहीं ली लेकिन कितनी लेनी चाहिए यह पता नहीं होता. संयुक्त राज्य अमरीका में हुए हालिया शोध में पता चला है कि यह व्यक्ति की उम्र पर निर्भर करता है.

नियमित जीवनशैली का अभाव, शराब, कॉफी और एनर्जी ड्रिंक का सेवन ऐसी चीजें है जो आपके रोज़मर्रा की दिनचर्या को प्रभावित कर सकते हैं.

 

एकाग्रता को बढ़ाना आसान

एकाग्रता

एकाग्रता (एक+अग्रता) का अर्थ है किसी उद्देश्य की प्राप्ति के लिये अन्य बातों पर ध्यान (या प्रयास) न लगाते हुए एक ही चीज पर ध्यान (और प्रयास) केन्द्रित करना। तप और ब्रह्मचर्य अपनी इच्छाओं पर नियंत्रण पाया जाता है। तप से पापों का नाश होता है, इंद्रियों को निर्बल करता है, चित्त को शुद्ध करता है, और इस प्रकार एकाग्रता की प्राप्ति में सहायक होता है। योगदर्शन में आत्मनियंत्रण तथा ध्यान के अभ्यास द्वारा एकाग्रता प्राप्त करने का उपाय बताया गया है।

 

17 November 2016

परीक्षा के दौरान छात्रों की एक ही शिकायत होती है कि पढ़ने के लिए इतना ज़्यादा है पर समय बहुत कम है.
समय नियोजित करने से काम  निपटाने के लिए, जितने समय और प्रयास की ज़रूरत होती है उसका अनुमान छात्रो को नही होता.
समय का महत्व जानते हुए समय नियोजन करें.  पहले से बनाई योजना से आपको लाभ ही होगा.
 

21 October 2016

शोधकर्ताओं की सिफारिशों के मुताबिक, नवजातों (तीन महीने की आयु) को प्रतिदिन 14-17 घंटे, वहीं शिशुओं (चार से 11 ... की आयु) को कम से कम आठ से 10 घंटे, जबकि वयस्कों को रोजाना सात घंटे से कम तथा नौ घंटे से ज्यादा नहीं सोना चाहिए। अधिकतर लोगों को यह तो पता होता है कि उन्हें जितनी नींद लेनी चाहिए थी उतनी नहीं ली लेकिन कितनी लेनी चाहिए यह पता नहीं होता.

21 October 2016

एकाग्रता (एक+अग्रता) का अर्थ है किसी उद्देश्य की प्राप्ति के लिये अन्य बातों पर ध्यान (या प्रयास) न लगाते हुए एक ही चीज पर ध्यान (और प्रयास) केन्द्रित करना। तप और ब्रह्मचर्य अपनी इच्छाओं पर नियंत्रण पाया जाता है। तप से पापों का नाश होता है, इंद्रियों को निर्बल करता है, चित्त को शुद्ध करता है, और इस प्रकार एकाग्रता की प्राप्ति में सहायक होता है। योगदर्शन में आत्मनियंत्रण तथा ध्यान के अभ्यास द्व

Test Schedule

Test Batch Date Link
IIT VISION-1 IIT VISION Friday, 7 October, 2016 view
IIT VISION-2 IIT VISION Friday, 7 October, 2016 view
IIT VISION-3 IIT VISION Friday, 7 October, 2016 view
PMT VISION PMT VISION Friday, 7 October, 2016 view
SUPER - 50 IIT Target Friday, 7 October, 2016 view
IIT TARGET-3 IIT Target Friday, 7 October, 2016 view
IIT TARGET--4 IIT Target Friday, 7 October, 2016 view
- view
- view

Sponsors

Contact us

ABC Classes

2nd Floor Baldev Plaza,Golghar,
Gorakhpur, UP 273001

Contact No.: 91 7317230000, 7317240000

Tel:-  0551- 6450989

Get in touch with us

Duis aute irure dolor

Voluptatum cursus quaerat bibendum corrupti, mattis? Magnam ipsa porta, lacinia repellendus quam.

Education - This is a contributing Drupal Theme
Design by WeebPal.